Firkee Logo
Home Fun During Meeting At Sp Office Heated Argument Exchanged Between Mulayam Akhilesh And Shivpal
during meeting at SP office heated argument exchanged between mulayam akhilesh and shivpal

मुलायम सिंह ने सबके सामने कहा," आपका मुख्यमंत्री झूठ बोलता है"

उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा राजनैतिक घराना आज कल लीडरशिप क्राइसिस से जूझ रहा है। मतलब? मतलब ये कि जिसको देखो वही नेता बन रहा है। ऐसे में दिक्कत ये हो जाती है कि असली नेता कौन है इसका पता ही नहीं चलता। नेता जी शिवपाल यादव को पार्टी की कमान सौंपी थी। तो कल मुख्यमंत्री जी ने शिवपाल और उनके दोस्त यार सबको मंत्रीमंडल से निकाल दिया। वो निकलते ही कुछ बयान देते हैं। उसके बाद रामगोपाल पार्टी से बाहर। बोलो बेचारे प्रोफेसर साहब कितने दुःखी हो गए। कहते हैं, पार्टी से निकला कोई बात नहीं लेकिन ये बेइज्जती जो हुई वो ठीक नहीं। कल से घमाशान जारी था। 

अब आज हुआ मीटिंग। नेता जी पार्टी के जितने भी विधायक, सांसद, विधान परिषद सब का मीटिंग बुलाए। अब आज सुबह से क्या-क्या हुआ ये आप सुनिए। स्टेप-बाय-स्टेप। लास्ट में बस मार-पीट नहीं हुआ। बाउंसर जी ने रोक्म लिया। बाउंसर मतलब सुरक्षाकर्मी समझिए। 

सबसे पहले शिवपाल बाबु पार्टी ऑफिस पहुंचे... 
 


इसके थोड़ी देर के बाद शिवपाल चचा और अखिलेश के फैन लोग सब भिड़ गए। अब भावना है फूट ही जाती है। ले ज़िंदाबाद-ज़िंदाबाद खूब चला। पूरा इलाका एकदम धुंआ-धुआं। लेकिन फिर पुलिस वालन सब तैयार थे। सबको लाठी दिखा के शांत कर दिया गया। ऐसे भी ,मौसम ठंढ़ा हो रहा है। क्या पता कहीं एकाध लाठी चपत जाए तो पूरा मौसम दर्द जाए ही ना। इसलिए सब जल्द ही समझ भी गए। वैसे देख लें वीडियो है एक सब खा पी के पहुंचे थे। 
 


ये सब बवाल चला करीब 10।30 बजे तक। अब पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव। धांय-धांय सायरन बज रहा था। एकदम गाड़ी का लाइन लग गया था। फोटो नीचे दिखा रहे हैं।
 


फिर लगे हाथ नेता जी भी पहुंच गए। इनका भी अपना एक अलग रोला है। क्या है कि जहां हम खड़े होते हैं लाइन वहीं से शुरू होती है। ये वाली लाइन न सपा में नेता जी ही कह सकते हैं बस। तब तक अखिलेश मंच पर हाज़िर लगा चुके थे।

 
अब यहां से शुरू हुआ बतकही। माइक शिवपाल जी के हाथ। लाउडस्पीकर से आवाज़ आती है, "जो निकाल दिए गए हैं बाहर जाएं, ये गुंडई नहीं चलेगी।" और गुंडई चले भी तो कैसे! समझ रहे हैं ना! इसके बाद मुशायरे का दौर शुरू हुआ। मुख्यमंत्री जी ने अपनी सफाई देनी शुरू की। 

-लोग कह रहे हैं, एक नई पार्टी बनेगी। कौन बना रहा है नई पार्टी? मैं तो नहीं बना रहा हूं! 

-अगर नेता जी और पार्टी के खिलाफ कोई साजिश हो रही है तो मैं उसके खिलाफ कार्यवाही करूंगा। 

-अगर नेता जी मुझसे रिजाइन देने को कहते तो मैंने रिजाइन दे दिया होता। और इतना कहते-कहते वो फफक पड़े। अब कोई बात नहीं पप्पा के सामने बच्चे थोड़े इमोशनल   हो ही जाते हैं। 

-मुझे बुरा लगा जब अमर सिंह ने कहा कि नवंबर के बाद अखिलेश मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे।

बात भी वाजीब ही है किसी को भी बुरा लग सकता है। यही सब बोल के इनका बात खत्म हुआ। अब मौक़ा था चचा शिवपाल के बोलने का। आए। माईक पर। शुरू हुए। 

-जवाब हम भी दे सकते हैं

-बदमाशी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। ये पार्टी इतने ऊपर पहुंची है वो सिर्फ और सिर्फ नेता जी की वजह से। 

-अखिलेश ने मुझसे नई पार्टी बनाने की बात कही। मैं हाथ में गंगाजल लेके ये बात कह सकता हूं कि अखिलेश ने ये बात कही थी, कही थी, कही थी।

-पार्टी में झूठे लोगों को हम बर्दाश्त नहीं कर सकते। 

-जो लोग पार्टी को कमजोर करने की सोच रहे हैं, वो ये जान लें। नेता जी के खून-पसीने और मेहनत से 2017 में हम फिर से सरकार बनाएंगे। 

आगे पढ़ें

ख़ामोश! अब हम बात कर रहे हैं...

Share your opinion:
Synopsis
समाजवादी पार्टी की मीटिंग चल रही थी. मुलायम ने अखिलेश और शिवपाल को गले लगने को कहा फिर हो गया...