Firkee Logo
Home Bollywood When Sunil Gavaskar Worked For Bollywood In Dum Maro Dum
when sunil gavaskar worked for bollywood in dum maro dum

मेलोडी मंगलवार: देव आनंद की फिल्म से मिला था इस महान क्रिकेटर को बॉलीवुड में ब्रेक!

फिल्मों का ये वो दौर था जब देव आनन्द साहब लड़कियों के दिलों की धड़कन हुआ करते थे। 1970 का दौर। एक तरफ देश बदलाव को महसूस करने लगा था और दूसरी तरफ बदलाव का नशा सिर चढ़ कर बोल रहा था। ये बदलाव हर तरह से था। कल्चर में, लाइफ़ में, रोज़गार के अवसर में, हर चीज़ में। इसी दौर में हिन्दुस्तानी सिनेमा ने भी बहुत बदलाव देखे। यहां हिन्दुस्तानी सिनेमा से मेरा मतलब सीधे तौर पर बॉलीवुड से है। हिंदी सिनेमा की बात कर रहा हूं।
 

1971 की वो फिल्म:
 

तब देव आनंद ने फिल्मों में एक्टिंग के साथ-साथ फिल्में डायरेक्ट करना भी शुरू कर दिया था। 1970 में आई देव आनंद की फिल्म प्रेम पुजारी बॉक्स ऑफिस पर बहुत कमाल नहीं कर पाई थी। इसके एक साल के बाद, बल्कि एक साल से ज्यादा क्योंकि प्रेम पुजारी 1970 के फ़रवरी महीने में आई थी। और दिसम्बर 1971 में आई थी फिल्म 'हरे रामा हरे कृष्णा'। उस ज़माने की अपनी तरह की इकलौती फिल्म। फिल्म बनी थी हिप्पी कल्चर पर। 

ये हिप्पी कल्चर क्या होता है? आज के दौर में तो नहीं उस ज़माने में वो ड्रग एडिक्ट लोगों की एक मण्डली बनी होती थी। देश-दुनिया से दूर अपने में मस्त लोग। हम इनकी तारीफ़ में कसीदें नहीं पढ़ रहे हैं। इनके बाल बड़े-बड़े हो जाते थे, दाढ़ी बढ़ी हुई होती। अपने ही धुन में मस्त कुछ गाने-बजाने वाले सब जमा होते, अपने घर-बार से अलग ड्रग्स लेते, गांजा पीते और गाना-बजाना करते। इनकी एक अपनी दुनिया बन जाती थी। ये उसी में जीते-बसते। इसी तरह के कल्चर को हिप्पी कल्चर कहा जाता था। 

source
source

देव आनंद अपनी फिल्म प्रेम-पुजारी के बाद नेपाल घूमने गए थे। जहां उन्होंने इस हिप्पी कल्चर को सामने से देखा और महसूस किया था। तब उन्होंने इस पर एक फिल्म बनाने की सोची थी। जिसमें ड्रग्स के खिलाफ़ समाज को एक मेसेज देने कोशिश की गई थी। फिल्म बनी, चली, बल्कि हिट हुई। इस फिल्म ने कैलिफ़ोर्निया से लौटी 'ज़ीनत अमान' को स्टार बना दिया था। बावजूद इसके कि ज़ीनत इस फिल्म में सेकेंड लीड थीं, उन्होंने इस फिल्म में देव आनंद की बहन का किरदार निभाया था।
 
इस फिल्म का वो गाना जो आज भी अच्छे म्युज़िक प्लेयर पर सुनो तो एक नशा बन जाता है। 

आप शायद अब तक समझ भी गए होंगे। हम बात कर रहे हैं, 'दम मारो दम' की। इस गाने में जो माहौल दिखाया गया है। जिसमें देशी-विदेशी जवान लोग, कॉलेज स्टूडेंट सब ड्रग और गांजे के नशे में झूमते दिखाए गए हैं। सब को एक अजीबो-गरीब लुक दिया गया है। ये जो इस गाने में पूरा एक कल्चर दिखाया गया है। वही है हिप्पी कल्चर। लोगों को नशे में खोए ये समझ नहीं आ रहा कि वो सब कुछ खोते जा रहे हैं। 
पहले गाना एक बार सुनिए, देखिए। फिर असली कहानी... 


वीडियो:


गाने को गाया है: आशा भोंसले जी ने 
लिरिक्स थे: आनंद बख्शी साहब के 
और म्युज़िक: आर. डी. बर्मन साहब की


यहां तक तो ठीक था। गाना भी आपने सुन लिया। लेकिन पते की बात? सुनिल गावस्कर कहां हैं? दिखे? 
 

यहां हैं ये देखिए...

Img courtey: Video snap

यहां कैसे पहुंचे?


जब देव आनंद हरे रामा हरे कृष्णा बना रहे थे। तब उन्हें कुछ कॉलेज के लड़के-लड़कियों की फिल्म में ज़रूरत थी। और उस टाइम अपने लिटिल मास्टर मुंबई के सेंट जेवियर्स में पढ़ाई करते थे। और मुंबई के लिए रणजी टीम में खेल भी रहे थे। यही सब टाइम चल रहा था। लेकिन इनको क्रिकेट के साथ-साथ फिल्मों का भी शौक था। ये इनके दोस्त लोग बताते हैं। जब देव आनंद के दम मारो दम  में मौका मिला तो टोपी लगा के हरे रामा हरे कृष्णा करने लगे। और शायद इसी के कुछ दिन बाद ही इनका इंडियन टीम में वेस्ट इंडीज़ जाने के लिए सेलेक्शन हो गया था।

sunil gavaskar2

ये भी सुन लीजिए इनके दोस्त क्या बोले थे:


इसके बाद क्रिकेट झमक्क के तो खेले ही। खूब रिकॉर्ड भी बनाए। आज भी इंडिया में सचिन के बाद क्रिकेट में किसी का नाम लिया जाता है तो वो सुनील गावस्कर ही हैं। अच्छा, क्रिकेट छोड़ने के बाद भी मराठी फिल्मों में कुछ-कुछ ट्राय करते रहे लेकिन कुछ ज़बरदस्त हो नहीं पाया। लेकिन जो भी हो 30 रुपये की टी-शर्ट पहन के हरे रामा हरे कृष्णा करता हुआ ये लड़का जंच नहीं रहा था। 

शायद क्रिकेट के लिए ही पैदा हुआ था, ये 5 फीट 6 इंच का लिटिल मास्टर। भला हो बॉलीवुड वालों का जो इन्हें मौक़ा दिया नहीं, वरना हमें क्रिकेट का दूसरा लिटिल मास्टर तो मिल जाता। ये पहला नहीं मिलता।

'मेलोडी मंगलवार' में आज इतना ही। फिर किसी ऐसी ही मस्त-सी कहानी के साथ मिलेंगे। अगले मंगलवार। तब तक के लिए पढ़ते रहिए। क्या? Firkee.in एकदम असली वाला।

Share your opinion:
Synopsis
मेलोडी मंगलवार: सुनील गावस्कर क्रिकेट से पहले बॉलीवुड में काम करते थे!

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree