Firkee Logo
Home News Biggest Treasures In India To Be Found
अब भी भारत में छिपे हैं इतने अनमोल खजाने

अब भी भारत में छिपे हैं इतने अनमोल खजाने

अंग्रेज शासन काल से पहले भारत दुनिया का सबसे अमीर देश हुआ करता था। इसी वजह से एक समय भारत को ‘सोने की चिड़िया’ कहा जाता था। लेकिन अंग्रेजों के अलावा भी हुई विदेशी लूटपाट ने हमारे देश बड़े-बड़े खजाने खाली कर दिए। भारत से लूटे गए खजाने में विश्व विख्यात कोहीनूर हीरा और तख्त-ए-तौस शामिल भी है। मगर इस सब के बावजूद भारत में कई खजाने ऐसे भी हैं, जिनकी खोज होनी अभी बाकी है। आज हम आपको बताने वाले हैं कि किस्सों-कहानियों के अनुसार कौनसे खजाने हैं, जिनकी खोज आज तक नहीं हुई हैं:

श्री मोक्कमबिका मंदिर, कर्नाटक1-biggest-treasure

यह मंदिर कर्नाटक के पश्चिमी घाट की कोल्लूर की नीचे हैं। मंदिर की वार्षिक आय 17 करोड़ है, लेकिन रखरखाव का सालाना खर्च 35 करोड़ रुपए हैं। मंदिर के पुजारियों के अनुसार ‘नाग’ का चिन्ह होने के कारण मंदिर के नीचे बहुत बड़ा खजाना है। ‘नाग’ मंदिर को बाहरी ताकतों से बचाता है। अगर खजाने को छोड़ भी दें, तो भी मंदिर में 100 करोड़ रुपए के गहने हैं।

कृष्णा नदी का खजाना, आध्र प्रदेश2-biggest-treasure

दुनिया के सबसे बेहतरीन हीरों का खनन कृष्णा नदी के किनार कोल्लुर में हुआ था। गोलाकोंडा राज्य का यह भाग आज कृष्णा और गुंटूर जिले हैं। माना जाता है कि आज भी हीरे की बहुत बड़ी खेप वहां मौजूद है। कोहीनूर हीरा भी इसी जगह से आया था।

चारमीनार सुरंग, हैदराबाद3-biggest-treasure

माना जाता है कि चारमीनार और गोलकोन्डा को जोड़ना वाली सुरंग में बहुत बड़ा खजाना छुपा है। कहानियों के अनुसार इस सुरंग का निर्माण सुल्तान मोहम्मद कुली कुतुब शाह ने शाही परिवार के लिए करवाया था, जिससे कि जरूरत पड़ने पर वो किले से चारमीनार आसानी से जा सकें। 1936 में निजाम मीर उस्मान अली को एक रिपोर्ट भी दी गई मगर उन्होंने इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया। माना जाता है कि आज भी सुरंग में खजाना मौजूद है।

नादिर शाह का खजाना4-biggest-treasure

ईरानी आक्रमणकारी नादिर शाह में 1739 में भारत पर हमला किया और 50,000 सैनिकों के साथ दिल्ली में घुसा। भारी लूटपाट के साथ नादिर शाह ने 20,000-30,000 लोगों का नरसंहार भी किया। कहा जाता है कि लूट इतनी बड़ी थी कि वापस जाते समय उसका खेमा 150 मील लंबा था। एक मनगढंत कहानी के अनुसार, वापस जाते समय उसका कत्ल हो गया था मगर इतिहास के अनुसार 1747 में उसका कत्ल हुआ। नादिर शाह ने करोड़ सोने के सिक्के, हीरे-जवाहरात से भरी बोरियाँ, पाक तख्त-ए-तौर (जो अब ईरान में हैं) और विख्यात, कोहीनूर हीरा लूटा, जो अब ब्रिटिश राजमुकुट में हैं।

सोनभंदर गुफाएं, बिहार5-biggest-treasure

सोनभंदर गुफाएं बिहार के राजगीर की एक बड़ी चट्टान में मौजूद दो गुफाएं हैं।पश्चिमी शिलालेख के कारण इन्हें ईसा पूर्व तीसरी या चौथी सदी में का माना जात है। माना जाता है कि पश्चिमी कक्षों को रक्षक कक्ष हैं और द्वार राजा बिम्बीसरा के खजाने की ओर जाता है। लोककथाओं के अनुसार खजाना ज्यों का त्यों पड़ा है। अंग्रेजों ने तोप के द्वारा इसे लूटने का असफल प्रयास किया था।

मीर उस्मान अली का खजाना, हैदराबाद6-biggest-treasure

मीर अली उस्मान हैदारबाद के आखरी निजाम थे। उन्होंने इंग्लैंड के बराबर राज्स पर हुकुमत की। 2008 में फोर्ब्स मैगजीन ने उन्हें 210 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ दुनिया के सर्वकालिक सबसे धनी लोगों में पाँचवे पायदान पर रखा। कहा जाता है कि उनका खजाना कोठी महल, हैदराबाद के नीचे गढ़ा हुआ है, जहां उन्होंने अपनी अधिकतर जिंदगी बिताई। हालांकि, उनकी संपत्ति का असल हिसाब या आंकलन किसी के पास नहीं।

अलवर का मुगल खजाना, राजस्थान7-biggest-treasure

अलवर का किला दिल्ली से 150 किलोमीटर दूर, राजस्थान के अलवर जिले में हैं। लोककथा के अनुसार, मुगल राजा जहांगीर ने देश छोड़ने से पहले यहां शरण ली थी और अपना खजाना यहीं छुपाया था। कहा जाता है कि खजाना का बहुत बड़ा हिस्सा अब भी किले में ही छुपा है। मुगल साम्राज्य से पहले भी अलवर का राज्य बेहद संपन्न था। यहां के कप पन्ने से बनाएं जाते थे।

मान सिंह-I का खजाना, जयपुर8-biggest-treasure

जयपुर के राजा मानसिंह-I अकबर की सेना के सेनापति थे। वे अकबर के नवरत्नों में से एक थे। एक पौराणिक कहानी के अनुसार, 1580 में अफगान विजय के बाद, उन्होंने अकबर को लूट का हिस्सा नहीं दिया और खजाने के जयगढ़ के किले में छुपा दिया। कुछ लोगों का मानना है कि खजाने को उनके किले के नीचे ही छिपाया गया था। इस बात का प्रामाणिकता इस बात से भी मिलती है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल के समय खजाने की खोज का आदेश दिया था। हालांकि सरकारी रिपोर्टों में इस खोज को व्यर्थ करार दिया गया। विपक्ष ने आरोप लगाया कि दिल्ली में प्रधानमंत्री के घर तक सेना के टैंकों में खजाने को पहुँचाने के लिए छह महीने तक दिल्ली-जयपुर मार्ग आम जनता के लिए बंद था। कौनसी कहानी सच है, यह कहना मुश्किल है।

ग्रॉसवेनर का मलबा, दक्षिण अफ्रीका9-biggest-treasure

इस खजाने की खोज करने वालों को शायद भारत से बहुत दूर जाना पड़े। भारत का यह खजाना भारत से बहुत दूर दक्षिण अफ्रीका के पास डूबा। ग्रॉसवेनर को ईस्ट इंडिया कंपनी का सबसे बड़ा और अमीर जहाज कहा जाता है, जो डूब गया। ग्रॉसवेनर मद्रास से, श्रीलंका से होते हुए, इंग्लैंड के लिए मार्च 1782 में रवाना हुआ। 4 अगस्त, 1782 में केप टाउन, दक्षिण अफ्रीका से 700 मील दूर यह एक चट्टान से टकरा गया। गुम हुए सामान में 26 लाख सोने के सिक्के, 14000 सोने की सिल्लियां और हीरे, पन्ने, माणक, नीलम से भरीं 19 तिजोरियां थीं, जिनका वजन किसी को भी नहीं मालूम। हालांकि जहाज के मल्बे में से बहुत छोटा सा हिस्सा मिला, लेकिन बहुत बड़ा खेप की खोज अब भी नहीं हुई है।

पद्मनाभस्वामी मंदिर के तहखाने, केरल10-biggest-treasure

तिरूवनंतपुरम, केरल के श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति मिली जब जून 2011 में इसके एक तहखाने को खोला गया। अधिकारी अंदर का दृश्य देख कर स्तब्ध रह गए। उस तहखाने में गहने, मुकुट, मूर्तियों के साथ रोजाना इस्तेमाल जाने वाल बर्तन थे। लेकिन यह सब सोने के थे और इनमें कई नगीने भी लगे थे। तहखाने में मिले इस खजाने की अंतर्राष्ट्रीय कीमक 22 अरब डॉलर आंकी गई। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया कि दूसरा तहखाना तभी खुलेगा जब पहले तहखाने में मिली संपत्ति का सारा कागजी काम पूरा हो जाएगा। मंदिर के पुजारियों के अनुसार दुसरे तहखाने में और भी बड़ा खजाना है, जिसकी रक्षा ‘नाग’ करते हैं। इस खोलने से भारी तबाही हो सकती है। तो आप कौन से खजाने की खोज करने वाले हैं?
Share your opinion:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree