Firkee Logo
Home Facts Sukhdev Thapar An Indian Revolutionary
24 साल की उम्र में देश पर कुर्बान हो गए थे 'सुखदेव'!

24 साल की उम्र में देश पर कुर्बान हो गए थे 'सुखदेव'!

भगत सिंह और राजगुरू के साथ लाहौर षड़यंत्र मामले में फांसी पर लटका दिए गए क्रांतिकारी सुखदेव थापर को आज भी देश उनकी देशभक्ति, साहस और मातृभूमि पर कुर्बान होने के लिए याद करती है। 15 मई 1907 को पंजाब के लुधियाना शहर में जन्में सुखदेव के मन में बचपन से ही देशभक्ति की भावना कूट-कूट कर भरी थी। आज उनके शहीदी दिवस पर आईए एक बार फिर से उन्हें याद करें।

कॉलेज में हुई थी भगत सिंह से मुलाकात


2014_3image_00_24_412850000bhagat_singh-rajguru-sukhdev-ll-500x300
यह वह समय खा जब सुखदेव लाहौर के नेशनल कॉलेज में युवाओं में देशभक्ति की भावना भरते थे और उन्हें स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़ने के लिए प्रेरित करते थे। एक कुशल नेता के रूप में वह कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों को भारत के गौरवशाली अतीत के बारे में भी बताया करते थे। नेशनल कॉलेज में पढ़ाई के दौरान उनकी मुलाक़ात भगत सिंह के साथ हुई। इन दोनों के इतिहास के अध्यापक ‘जयचंद्र विद्यालंकार’ थे, जिन्होंने इनके अंदर व्यवस्थित क्रांति का बीज डाला। विद्यालय के प्रबंधक भाई परमानंद भी जाने-माने क्रांतिकारी थे। 1926 में लाहौर में ‘नौजवान भारत सभा’ का गठन हुआ जिसके मुख्य संयोजक सुखदेव थे। इस टीम मे भगत सिंह, यशपाल, भगवती चरण औक जयचंद्र विद्यालंकार जैसे क्रांतिकारी भी थे।

लाला लाजपत राय की मौत का बदला

May-15th-2015-108th-Birth-anniversary-of-Shaheed-Sukhdev-Thapar
सुखदेव ने अन्य क्रांतिकारी साथियों के साथ मिलकर लाहौर में नौजवान भारत सभा शुरू की। यह एक ऐसा संगठन था जो युवकों को स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित करता था। वह खुद भी क्रांतिकारी गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लिया। उनका नाम 1928 की उस घटना के लिए प्रमुखता से जाना जाता है जब क्रांतिकारियों ने लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए गोरी हुकूमत के कारिन्दे पुलिस उपाधीक्षक जेपी सांडर्स को मौत के घाट उतार दिया था।

सुखदेव को गांधी जी की नीति पर नहीं था भरोसा

rajgur1u
सुखदेव को गांधी जी की अहिंसक नीति पर जरा भी भरोसा नहीं था। उन्होंने महात्मा गांधी को जेल से एक पत्र लिखा जो आज भी एक ऐतिहासिक दस्तावेज है। सुखदेव ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए लिखा था “मात्र भावुकता के आधार पर की गई अपीलों का क्रांतिकारी संघर्षों में कोई अधिक महत्व नहीं होता और न ही हो सकता है।”

हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर

agat-Singh-Rajguru-Sukhdev-did-sacrifice-for-independent-india (1)
इस घटना ने ब्रिटिश साम्राज्य को हिलाकर रख दिया था और पूरे देश में क्रांतिकारियों की जय-जय कार हुई थी। सांडर्स की हत्या के मामले को ‘लाहौर षड्यंत्र’ के रूप में जाना गया। इस मामले में राजगुरु, सुखदेव और भगत सिंह को मौत की सजा सुनाई गई। 23 मार्च 1931 को तीनों क्रांतिकारी हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर झूल गए और देश के युवाओं के मन में आजादी पाने की नई ललक पैदा कर गए। शहादत के समय सुखदेव की उम्र मात्र 24 साल थी।
Share your opinion:
Synopsis
भगत सिंह और राजगुरू के साथ लाहौर षड़यंत्र मामले में फांसी पर लटका दिए गए क्रांतिकारी सुखदेव थापर को आज भी देश उनकी देशभक्ति, साहस और मातृभूमि पर कुर्बान होने के लिए याद करती है।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree