Firkee Logo
Home Feminism Girls Dont Ever Tolerate Abuses
girls dont ever tolerate abuses

लड़कियों! सबकुछ सुनना, मग़र गालियां नहीं

गालियां देना या किसी को वर्बली एब्यूज करना भावनात्मक शोषण के अंतर्गत आता है। शारीरिक पीड़ा से अधिक कष्टकारी होती है मानसिक पीड़ा। शब्द चुभते हैं और उनका असर क्षणिक न होकर लंबे अरसे तक रहता है। मग़र लगातार मौखिक रूप से किसी को दी गयी यह यंत्रणा न सिर्फ़ उसको डिप्रेस कर सकती है बल्कि हमेशा के लिए उसके व्यक्तित्व पर नकारात्मक प्रभाव डालती है। स्वाभिमान को ख़त्म करती है और खुद पर से यक़ीन उठा देती है।

Abuse2  


किसी रिश्ते में मोहब्बत के नाम पर गालियां देना और उनका सहन कर लिया जाना आम बात है। लड़कियों, मोहब्बत करना, डूब कर करना। खुद को भुला देने की हद तक। सब कुछ कुर्बान करना पर खुद का आत्म-सम्मान नहीं। दुनिया का कोई गुनाह ऐसा नहीं जिसके लिए तुम्हें किसी के हाथों अपमानित होना पड़े। किसी से गालियां सुननी पड़ें या किसी के फ़िज़िकल या वर्बल एब्यूज़ का शिकार होना पड़े। यूं लड़कियों को गाली देने का अधिकार तो हर ऐरा-गैरा अपनी जेब में रखे घूमता है। राह चलती लड़की छोटे कपडे पहने चल रही हो तो चरित्रहीन का तमगा हासिल कर लेती है। बॉयफ्रेंड के साथ घूम रही हो तो वेश्या का बिल्ला गले में लटक जाता है। मज़े की बात यह है कि उन्हें यूं देखने में पुरुषों को ही सबसे अधिक आनंद आता है। तो उन्हें आंखों का सिरप देने के साथ फ्री में लड़कियों को जो मिलती है वो होती हैं गालियां। फिर भी यातना देने वाला कोई बेहद क़रीबी हो तो उसका दुःख कई गुना बढ़ जाता है।


लड़कियों अग़र तुम्हें लिव इन में रहने के कारण कोई रखैल कहे तो उसे बताना रखैल का अर्थ होता है भरण-पोषण देने के बदले में रखने वाला। उसको बताना कि तुम सक्षम हो अपना भार खुद उठाने में। जो तुम कर रही हो वो प्रेम है। अगर कोई तुम्हारे अतीत पर कीचड़ उछाले तो उसे बताना कि अतीत जैसा भी था तुमने खुद चुना था और तुम्हें फ़क्र है उन सारी मोहब्बतों पर जो तुमने कीं क्योंकि तुम ईमानदार थी। और अग़र तुमने कभी बेईमानी की भी तो पश्चाताप भी तुम करोगी। किसी को कुछ भी कहने का इख़्तियार नहीं देना।

Abuse1

याद रखना तुम, तुम हो और जो कर रही हो वो तुम्हारी नज़रों में ठीक होना चाहिए। गाली देने वाला कितने भी प्रेम का दावा करे, उसे पहली ही बार में बता देना कि ये यहां नहीं चलेगा। समस्या है तो उसे पहचानो और उस के विरुद्ध अपनी आवाज़ उठाओ। प्रेम की पराकाष्ठा तक प्रेम करो पर स्वाभिमान को ताक पर रखकर नहीं। प्रेम में झुकने का मतलब गिरना नहीं होता है।


साभार - दिव्या विजय
Divya

Share your opinion:
Synopsis
गालियां देना या किसी को वर्बली एब्यूज करना भावनात्मक शोषण के अंतर्गत आता है। शारीरिक पीड़ा से अधिक कष्टकारी होती है मानसिक पीड़ा। शब्द चुभते हैं और उनका असर क्षणिक न होकर लंबे अरसे तक रहता है।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree