Firkee Logo
Home Feminism Know About Who Says Yatrigan Kripya Dhyan Dein
Know about, who says, yatrigan kripya dhyan dein

यात्रीगण कृप्या ध्यान दें.... आप जानते हैं, किसकी है ये आवाज, नहीं तो अब जान लीजिए

रेलवे स्टेशन पर जब आप बेसब्री से ट्रेन का इंतजार कर रहे हों, तब हमेशा एक आवाज यह कहकर.... 'यात्रीगण कृप्या ध्यान दें'  आपकी बेचैनी को दूर करती है। ऐसे में कई बार आपने सोचा होगा आखिर ये आवाज किसकी है।

सवालों का बवंडर दिमाग में इसलिए भी रहता होगा कि सफर के दौरान स्टेशन तो तमाम बदल जाते हैं लेकिन आवाज हमेशा वही रहती है। पूछने पर कभी किसी ने आपसे शायद यह भी बताया हो कि ये आवाज असली न होकर कंप्यूटर की है, इसीलिए सभी जगह एक सी सुनाई देती है। लेकिन हकीकत यही है कि वो आवाज बिल्कुल असली है और आज हम आपको उसी आवाज के बारे में बता रहे हैं जिसके गले से निकलकर ये रेलवे के इतिहास में दर्ज हो गई। 

ये आवाज है सरला चौधरी की। साल 1982 में सरला चौधरी का चयन सेंट्रल रेलवे की ओर से रेलवे अनाउंसर की तौर पर किया गया था। खास बात ये है कि रेलवे में पहली बार निकले अनाउंसर के इस पद के लिए 100 से ज्यादा लोगों ने ट्रायल दिया था लेकिन उनमें से सिर्फ सरला चौधरी का चयन हुआ। शुरूआत में उन्हें दैनिक कर्मचारी के तौर पर इस काम के लिए चुना गया, लेकिन उनकी लगन और गजब की आवाज ने चार साल बाद ही उन्हें स्थायी कर्मचारी बना दिया। 
आगे पढ़ें

रेलवे अनाउसमेंट की जॉब के लिए 100 लोगों में से चुनी गई थी सरला

Share your opinion:
Synopsis
रेलवे स्टेशन पर जब आप बेसब्री से ट्रेन का इंतजार कर रहे हों, तब हमेशा एक आवाज यह कहकर.... 'यात्रीगण कृप्या ध्यान दें' आपकी बेचैनी को दूर करती है।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree