Firkee Logo
Home Fun How Indias Leading News Papers Celebrated Sindhus Medal
हिन्दुस्तान के अखबारों ने सबसे बेहतरीन अंदाज़ में दी सिंधु को बधाई! दिल छू लिया

हिन्दुस्तान के अखबारों ने सबसे बेहतरीन अंदाज़ में दी सिंधु को बधाई! दिल छू लिया

सिंधु के ओलंपिक में सिल्वर जीतने के बाद पूरा देश झूमा। हर कोई उन्हें अवार्ड देने की बात कर रहा है। दिल्ली से लेके हैदराबाद तक हर कोई सिंधु को अवॉर्ड देने की बात कर रहा है। इसके पीछे की वजह क्या है ये हमें नहीं पता। लेकिन एक बात है जो हमें पता है। और वो ये कि अभी सिंधु जिस मुकाम पर हैं उसे हर कोई सिंधु के साथ नाम जोड़ कर छू लेने की फिराक़ में है।

अगर ऐसा नहीं है, तो फिर क्यों कुछ कंपनियों ने पहले सिंधु के साथ टाई-अप करने से मना किया था? और आज वही कंपनियां अपने साथ सिंधु को जोड़ने के लिए पागल हैं। हम यहां किसी का नाम नहीं ले रहे इनमें कई हैं!

दूसरी बात। ये जितनी भी सरकारें हैं, वो राज्यों की हों या केंद्र की। हर कोई करोड़-दो करोड़ की घोषणा किये पड़े हैं। इनमें से कितनों ने ओलंपिक से पहले खिलाड़ियों के बारे में एक बार सोचा भी? और भी हालात सुधरे नहीं, अब भी वही हाल है।

एक खिलाड़ी जिसकी मेहनत का नतीजा मिल गया, उसे पूरी बाहबाही मिल रही है। जो कि जायज़ है और जरूरी भी। क्योंकि ये बाहबाहियां ही एक खिलाड़ी को खेलते रहने के लिए और उसके अंदर के खेल को जिंदा रखेंगे। लेकिन उनका क्या जो बेचारे अपनी जी तोड़ मेहनत के बाद भी वहां सफल नहीं हो पाए, अगर सफलता का पैमाना सिर्फ मेडल है!

हमें नहीं पता ये चीज़ें कब सुधरेंगी, कब बदलेंगी। क्या ये अपने आप ही बदलेंगी या फिर हमारे आपके सोचने और सवाल उठाने से बदलेंगी। ये हमें सोचना होगा। खैर..
अभी के लिए जो सबसे अच्छी चीज़ हमें दिखी वो हम आपको दिखाने लाए हैं। और वो है सिंधु के मेडल जीतने के बाद जो देश की बड़ी अखबारें हैं उन्होंने किस तरह से सिंधु का शुक्रिया अदा किया। ये दिल को छू जाने वाला है।
 

यहां देखिए: 

sindhu-headlines-fb
एक और बात जो अभी-अभी इसे लिखते-लिखते याद आ गया। कल एक खबर खूब चल रही थी। खबर थी, कि गूगल पर कल सबसे ज्यादा सिंधु की जाति जानने के लिए सर्च किया जा रहा था। वो कौन सी जाति की हैं? कितना घिनौना है ये सब कुछ। एक तरफ एक बेटी विश्व में हिन्दुस्तान का नाम चमका कर आ रही है और हम यहां उसकी जाति में ही अटके हैं। अजी भईया अब भी वक़्त है सुधर जाओ। बेकार में यही सब सर्च करते-करते खर्च हो जाओगे और ऊपर से बुलावा आ जाएगा।

लेकिन गूगल क्या उसका बाप भी जवाब नहीं दे पाता। काहे कि सिंधु के मम्मी पापा जो हैं उनका लव मेरेज हुआ था। और दोनों शायद अलग-अलग कास्ट से थे। लेयो, खोज लो अब। बन गया मुंह सबका!

अभी के लिए इन अख़बारों की हैडिंग देखिए और भी चर्चे होंगे ओलंपिक और इंडिया के बारे में मस्त-मस्त वाले। उसके लिए पढ़ते रहिए Firkee.in आपकी सेवा में!

 
Share your opinion:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree