Firkee Logo
Home Lifestyle After Political Rift In Bihar An Open Letter To Nitish Modi And Lalu By A Bihari
After political rift in bihar, an open letter to Nitish Modi and Lalu by a bihari

नीतीश-लालू और मोदी के नाम ‘एक बिहारी का भोजपुरी में खुला खत’

सभी बड़न लोगन के प्रणाम, 
हमार नाम और पहचान एकके हौअ, बिहारी… जब से आपन गांव से शहर में अइली, तब्बे से लोग बिहारी कह कर बुलावलन, बड़ा बखत हो गईल अब तो भुला भी गईनी कि हमारा असल नाम का हौ। वैसे जाए दा.... नाम जान के का करबा भईया लोग, कौनों चेहरा समझ लिहा जौवन भीड़ में खड़ा होकर सब नेता लोगन को सुनल करला । कली हा देखनी, कि रउरा लोग आपन बिहार की फोटवे बदल देहलन। हम तो डिरा गईल रहली कि नीतीश बाबू मुखमंत्रियां की कुर्सी से उतर जहएं लेकिन तब्बे नीतीश कुमार और मोदी जी का फोटो दिखा के टीवी वाले बताए लगलन की, अब बिहार में भाजपा और जदयू साथ में सरकार चलहीइएं। चला सुकुन हौओ कि परदेश में राष्ट्रपति शासन न लगल। 

वइसन तो नीतीश बाबू पर भरोसा हौ, लेकिन इ कुल सरकार बाजी का खेल देखकर मन्ने में एक आध सवाल उठत हौओ कि नीतीश बाबू आदमी को पहचाने खातिर कौन मंत्र का इस्तेमाल करलन। मतलब उनके लग्गे कौनों शक्ति हौओ कि वो आदमी के अपने बखत के हिसाब से पहचान लेवलन। कब्बो लालू जी के साथ आ जालन तो बीजेपिया वाले खराब दिखालन उनके, फिर जब बीजेपी वालन के साथ आ गईलन, तै लालू का जंगलराज दिखाए लागल बाटे। 

हम्मे याद हौअ, ई वाला विधानसभा चुनाव…  धान कटाई करे खातिर गांव गइल रहली तै चुनाव का समय रहल, कुल नेता लोग गोड़ धर के आर्शीवाद मांगत रहलन। ओ बखत कुल केसरिया गमछा वाले लइकन, नीतीश बाबू के बड़ा गरियावत रहलन। फिर नीतीश बाबू और लालू जी की पार्टी के नेतवन अइलन, ते उ कुल मोदी जी के जौवन गरियलन की हमरो कपार झन्ना गईल रहल । 

ई कुल गाली का खेल देखकर हम सिर खुजा के सोचत रहनी कि भईया, बीजेपी और जदयू कब्बों साथ न आइंए।  लेकिन बाबू जी, आप लोगन की महिमा आप ही लोग जानें, कल तक जौवन पार्टी वाले एक दूसरे के खून के प्यास रहें आज कुल गले में हाथ डालकर घूमत हउन। नीतीश बाबू के पास ऐसा कौन डिटरजेंट हौअ, जौन उ किसी पर भी डाल के.. ओके बेदाग कर देवलन। सरकार बनावे के 20 महीने के बाद एइसा का भइल कि कुल बिहारी का डीएनए बदल गइल। 

भइया लोगन, आप सबसे दुन्नो हाथ जोड़ के बिनती करत हई, कि खाली सत्ता के खातिर हमार सबके बिहार की बलि मत चढ़ावा। सरकार कौनों चलावा... लेकिन विकास करे का वादा मत भूलिया। 6ठवीं बार तो नीतीश बाबू जब शपथ लेत रहलन, ते उनके ऊपर जिम्मेदारी अउर बढ़ गइल हौअ,  अब ते उनके कपारे पर केंद्र का आर्शीवाद भी हौअ, ते का... एदा पारी हमन सभन की उम्मीद और बढ़ गईल हौअ कि फुलटू होई? 

बड़ लोगन का ढेर समय न लेब, कुल बिहारियन की तरफ से आपन एक दरखास्त भेजत हई कि एदा पारी, खाली बिहार के विकास पर लड़ाई खातिर मनमुटाव करिया। बाकि नई सरकार खातिर नीतीश बाबू और मोदी जी को शुभकामनाएं, और लालू जी.... गुस्सा थूका आवा तोहके लिट्टी चोखा खिलाई। 

चलत हई, गोड़ धरत हई
आपका एक बिहारी 
Share your opinion:
Synopsis
भइया लोगन, आप सबसे दुन्नो हाथ जोड़ के बिनती करत हई, कि खाली सत्ता के खातिर हमार सबके बिहार की बलि मत चढ़ावा। सरकार कौनों चलावा... लेकिन विकास करे का वादा मत भूलिया।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree