Home Omg Funny Memes On Cheetah After Coming To India Hilarious Memes Going Viral On Social Media

Cheetah Memes: चीता के भारत आने पर सोशल मीडिया पर आई मीम्स की बाढ़, पढ़कर हो जाएंगे लोटपोट

टीम फिरकी, नई दिल्ली Published by: ज्योति मेहरा Updated Mon, 19 Sep 2022 11:56 AM IST
cheetah memes
cheetah memes - फोटो : instagram/filmygags

विस्तार

Cheetah Memes: भारत में करीब 70 सालों बाद चीता का आगमन हुआ है। ये चीता 17 सितंबर यानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के खास मौके पर नामीबिया से भारत लाए गए हैं। 8 चीतों को लाने के लिए विशेष विमान तैयार किया गया थे। इन चीतों को चिनूक हेलिकॉप्टर से कूनो नेशनल पार्क ले जाया गया। ऐसे में देश भर में लोग इन चीतों के आगमन से काफी उत्साहित लग रहे हैं। बता दें, इन चीतों के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए भी सरकार द्वारा अभियान चलाए जाएंगे। सात दशक बाद भारत आए इन चीतों को लेकर सोशल मीडिया पर भी काफी हलचल दिखाई दे रही है। ऐसे में मीम्स के बादशाह पीछे कैसे रह सकते हैं। सोशल मीडिया पर नामीबिया से भारत आए चीतों को लेकर जबरदस्त मीम्स वायरल हो रहे हैं, जिन्हें देखकर लोगों को खूब मजा आ रहा है। आइए आपको भी दिखाते हैं, ये मजेदार मीम्स...
 
सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे ये मीम्स लोगों को खूब हंसा रहे हैं। साथ ही ये लोगों द्वारा जमकर शेयर भी किए जा रहे हैं। इंस्टाग्राम पर filmygags नाम के पेज पर शेयर किए गए ये मीम्स वाकई मजेदार हैंं। आप भी देखें...

Image

Image

Image

Image

 
विज्ञापन

इसे साथ ही लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर भी जमकर मीम्स शेयर कर रहे हैं, जिसे देखकर लोगों की हंसी नहीं रुक रही है।
 

 
दरअसल, चीता और तेंदुआ दिखने में काफी हद तर समान लगते हैं। ऐसे में लोगों को इनको लेकर काफी कनफ्यूजन हो रहा है। कई लोगों को लग रहा है कि लेपर्ड ही चीता है। लेकिन असल में इन दोनों में काफी अंतर है। इसको लेकर भी ट्विटर पर एक कमाल का मीम शेयर किया गया है। आप भी देखें-
 
बता  दें, 1921-22 में प्रिंस ऑफ वेल्स की भारत यात्रा के दौरान कई चीतों का शिकार किया गया था। वहीं 1947 में महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव द्वारा आखिरी तीन चीतों का शिकार किया गया था, जिसके साथ ही 1952 में देश में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया गया।
 
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree