Firkee Logo
Home Omg Oh Teri Ki Prime Minister Modi Spents His Third Diwali On Boarder With Itbp
prime minister modi spents his third diwali on boarder with ITBP

प्रधानमंत्री की लगातार तीसरी दिवाली जो सरहद पर ही बीती

प्रधानमंत्री ने इस बार फिर अपनी दिवाली जवानों के ही साथ बिताई। इस बार फिर से मतलब, इससे पहले भी दो बार मोदी जी की दिवाली जवानों के ही साथ बीती थी। 

रविवार को दिवाली के ही दिन प्रधानमंत्री ने 'मन की बात' की थी।  जिसमें उन्होंने लोगों से भी जवानों के नामा दिए जलाने की बात कही थी।  मुझे नहीं पता अगर जवानों के नाम दिए नहीं जलाए जाएंगे तो कोई उन्हें याद नहीं करेगा क्या? या उनका सम्मान कम हो जाएगा। खैर...जो भी हो। लेकिन ये भी एक अच्छा प्रयास ही है। और हम जैसे स्वार्थी लोगों को त्योहारों के वक़्त सब कुछ भूल जाने की आदत है। बस सेलिब्रेशन, सेलिब्रेशन यही याद रहता है। भले इस सेलिब्रेशन के नाम पर पूरा इलाका धुआं- धुआं हो जाए। लोगों का जीना हराम ही क्यों न हो जाए। 

तो इसके लिए प्रधानमंत्री जी का शुक्रिया। कि उन्होंने लोगों को अपनी सरहद के सिपाहियों की भी याद दिलाई। इस बार मोदी जी ने दिवाली हिमाचल से सटे चीन सीमा के पास आईटीबीपी(ITBP) के जवानों के साथ बिताई। 


ड्यूटी पर तैनात जवानों के साथ बात करते हुए उन्होंने कहा कि, "लोग कहते हैं दिवाली अपनों के साथ मनाइए, तो मैं आ गया आपके पास दिवाली मनाने।"

"हम हिंदुस्तान के लोग चैन से सोते हैं क्योंकि आप हमारी सीमा की सुरक्षा में तैनात हैं।"


इससे पहले प्रधानमंत्री ने  2014 की दिवाली सियाचीन में पोस्टेड जवानों के साथ और 2015 की दिवाली पंजाब में इंडिया-पाकिस्तान बॉर्डर के पास बिताई थी। अब वहां गये थे तो इसका कुछ पॉलिटिकल फायदा ना उठा पाए तो काहे के पॉलिटिशियन। उनहोंने जवानों को ये भी तुरंत ही याद दिला दिया कि हमने(सरकार) आपके 'वन रेंक वन पेंशन' को भी मंजूरी दे दी।  

ये नहीं बताया कि कितनी चीज़ें नहीं मानी गईं। कितनी चीज़ें बदल दी गईं। कम से कम ओआरओपी इसके लिए तो माफ़ी मांग लेते कि जिन एक्स-सर्विस मेन को जंतर-मंतर पर धरने की वजह से पीट दिया गया था। कोई बात नहीं। हमें तो शुक्रगुज़ार होना ही पड़ेगा, हमारी देशभक्ति जिंदा करने के लिए। 

हैप्पी दिवाली! Firkee.in

Share your opinion:
Synopsis
प्रधानमंत्री ने इस बार फिर अपनी दिवाली जवानों के ही साथ बिताई। इस बार फिर से मतलब, इससे पहले भी दो बार मोदी जी की दिवाली जवानों के ही साथ बीती थी। 

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree