Firkee Logo
Home Omg Oh Teri Ki Undigestable Facts Bizzare About India
undigestable facts bizzare about india

2004 की सुनामी इंडिया, यू.एस. और इज़राइल का जॉइंट ऑपरेशन था

हमें न इन किस्सों से प्यार-सा हो गया है। लोग जिस अंदाज़ में एकदम पूरे दावे के साथ बात करते हैं। मतलब क्या कहूं। मुझे हंसी भी नहीं आ रही थी। और तो और कुछ तो ऐसे जिनमें न कुछ कहते बन रहा था और ना कुछ समझते। ऐसे ही कुछ किस्से जमा किये हैं यहां आपके लिए। देखिए बेहद मज़ा आएगा। मेरा भारत महान!

1. अशोक सम्राट के पास 9 बुद्धिमानों की एक गुप्त टीम थी, जो आज भी है... 

less know ashoka

एक बड़ा ही जाना-माना किस्सा है। मौर्य राजा थे अशोक। 268 से 232 ई.पू. तक भारत पर शासन किया उन्होंने। इनके पास 9 बेहद ही होशियार लोगों की टीम थी। जो कि एक गुप्त सोसाइटी थी। उसका मकसद था, आम लोगों के फायदे की बात राजा को बताना। और कभी कोई ऐसी चीज़ किसी गलत हाथ में न चले जाए जिससे मानवता को खतरा हो, ऐसी चीज़ों की जानकारी राजा को देना। ऐसा कहते हैं कि ये गुप्त सोसाइटी आज भी कहीं है। मतलब हद्द है भाई किस्से कहानियों का भी। विज्ञान को आखिरी दम तक जब तक लताड़ न दें दम नहीं लेते।
 

2.दुनिया का पहला हवाई जहाज़ इंडिया में बनाया गया था

less known hawaai

कुछ लोगों का कहना है कि दुनिया का पहला हवाई जहाज़ राइट ब्रदर्स से 8 साल पहले इंडिया में बन चुका था। यह 1895 में शिवकर बापूजी तलपडे ने बनाया था। जो 15000 फीट तक हवा में जा के फिर क्रैश हुआ था क्योंकि उस समय लैंडिंग टेक्नोलॉजी नहीं थी। लेकिन अंग्रेज़ सरकार ने उसे दबा दिया था।

3. कथित तौर पर नेहरु जी के दादा का नाम गंगाधर नेहरु नहीं दिल्ली पुलिस में ऑफिसर घियासुद्दीन ग़ाजी था

less known nehru

ऐसे तो नेहरु-गांधी फैमिली को लेकर लोग दुनिया भर के किस्से-कहानी बनाते रहे हैं। कुछ सच कुछ झूठ। इतना सुने हो तो एक और सुन लो। ऐसा कहते हैं 1857 की क्रान्ति के समय नेहरु जी के दादा जी दिल्ली पुलिस में ऑफिसर थे। नाम था, घियासुद्दीन ग़ाज़ी। अब क्रान्ति की भेंट न चढ़ जाएं, तो भागने के लिए उन्होंने अपना नाम बदल लिया। और घियासुद्दीन से गंगाधर हो गए।

4. गांधी जी ने भगत सिंह की फांसी रुकवाने की कोशिश ही नहीं की

less know bhagat

भगत सिंह के जो सपोर्टर रहे हैं या आज भी जो उनके फॉलोअर हैं, उनका कहना है कि गांधी जी चाहते तो भगत सिंह और उनके साथी कॉमरेड जो हैं उनकी फांसी रोकी जा सकती थी। लेकिन गांधी जी ने ऐसी कोई कोशिश नहीं की। कुछ लोग तो इलज़ाम लगाने से भी नहीं चूकते, कहते हैं उन्होंने(महात्मा गांधी) जान-बूझ कर ऐसा करवाया क्योंकि दोनों अलग-अलग तरीके से आज़ादी दिलाना चाहते थे। और गांधी को उनका तरीका पसंद नहीं था। जबकि गांधी के जो फॉलोअर हैं, उनका कहना है कि इन्होंने भगत सिंह के लिए अंग्रेज़ सरकार के सामने अपील की थी।

5. नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की मौत प्लेन क्रैश में नहीं हुई थी

less know neta ji

नेता जी के जो बेहद ही करीबी लोग रहे हैं। उनका कहना है कि नेता जी प्लेन क्रैश में नहीं मरे थे। बल्कि जब उनकी मौत की खबर फ़ैल गई थी, उसके बाद वो आकर फैज़ाबाद में 'गुमनामी बाबा' के नाम पर रह रहे थे।

6. ताज महल पहले एक शिव मंदिर हुआ करता था

lesser know taaj


पी.एन. ओक ने एक किताब लिखी है, ताज महल: द ट्रू स्टोरी। इसमें उन्होंने बताया है कि ताज महल पहले एक शिव मंदिर हुआ करता था। जिसका नाम तेजो महालय था। जो शाहजहां ने जयपुर के महाराजा से हड़प ली थी। और उसने बोला कि आज के बाद कोई भी गुम्बद या टोम्ब जो है वो मंदिर नहीं कहलाएगा। खैर, यहीं एक और बात बता दूं ये वही महानुभाव हैं, जिन्होंने ये क्लेम किया था कि वैटिकन सिटी भी एक हिन्दू मंदिर हुआ करता था। और इसका नाम वाटिका के नाम पर रखा गया है। वैटिकन सिटी एक तरह से समझ लो ईसाइयों का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल है।

7. मदर टेरेसा एक अमेरिकी सीक्रेट एजेंट थीं

lesser know teresa


ये तो मतलब अखंड वाला है। ज्ञान देने वाले बाबा ज्ञानी ये वाला भी ज्ञान दे गए। कहते हैं, मदर टेरेसा अमेरिकी सीक्रेट एजेंट थीं। उनको अमेरिका ने जासूस बना के इंडिया भेजा था। जिससे इंडिया पर सोवियत संघ के प्रभाव को रोका जा सके। उस समय सोवियत संघ खत्म नहीं हुई थी। और वो एक एजेंट हैं ये छुपाने के लिए उन्होंने गरीबों की सेवा का बहाना बनाया था। मेरी हंसी इसपर रुक ही नहीं रही। कितने ख़तरनाक लोग रहते हैं भिया हमारे आस-पास।

8.सीआईए ने नंदा देवी की चोटी पर एक नयूक्यलीयर डिवाइस लगाई थी, गायब हो गई और दुबारा मिली ही नहीं

lesser known CIA

ऐसा कहा जाता है कि 1965 में अमेरिकी सीक्रेट सर्विस सीआईए के लोगों ने इंडिया की दूसरी सबसे बड़ी छोटी नंदा देवी पर एक न्यूक्लियर डिवाइस लगाने का प्लान बनाया। लेकिन जब टीम उसे वहां लगाने पहुंची तब मौसम खराब हो गया था। टीम को डिवाइस छोड़ कर वहां से निकलना पड़ा। और जब मौसम बाद में सुधरा तो वो फिर वापस लौटे। लेकिन उन्हें उस डिवाइस का कुछ पता नहीं चला। और आज तक किसी को पता नहीं, उसका हुआ क्या!

9.सिर्फ अजहरुद्दीन नहीं बल्कि कपिल देव भी थे...

lessser know kapil azahar

साल 2000 में जब अज़हरुद्दीन को मैच फिक्सिंग केस में दोषी पाया गया था। तब लोगों को कहना था कि मामला इतना सीधा नहीं है। इसके पीछे और भी बड़े लोगों का हाथ था। बाद में जब तहलका पत्रिका ने इस पर इन्वेस्टीगेशन किया था, तब मनोज प्रभाकर ने बताया था कि इसमें कपिलदेव भी थे। लेकिन टीम के बाकी खिलाड़ी टीम में उनकी हैसियत और पहचान की वजह से चुप रह गए।

10.सुनामी एक प्राकृतिक आपदा नहीं थी बल्कि ये इंसानों का किया कराया था...

lesser know tsunami

2004 में सुनामी आई थी। इंडिया, श्री लंका और इंडोनेशिया में बहुत लोगों की मौत हुई थी। कुछ इजिप्टियन और मिडिल इस्टर्न जो मीडिया हैं उनका कहना कुछ और ही था। उनका कहना था कि इंडिया, अमेरिका और इज़रायल मिल कर जॉइंट अंडर वाटर वेपन टेस्ट कर रहे थे। जिससे इतनी भयानक तबाही हुई थी। और ये बात छिपा ली गई। अब क्या कहें इन्हेें, आप ही बताएं। 

Firkee.in बातें जो कहीं नहीं, वो यहां मिलेंगी! 

Share your opinion:
Synopsis
2004 की सुनामी इंडिया, यू.एस. और इज़राइल का जॉइंट ऑपरेशन था

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree