Firkee Logo
Home Omg Two Brother Met Again After 74 Years Partition Of India And Pakistan In 1947 Know About Emotional Story
Two brother met again after 74 years partition of india and pakistan in 1947 know about emotional story

Viral Story: 1947 के बंटवारे में बिछड़े भाइयों का 74 साल बाद हुआ मिलन, वीडियो देख नम हो जाएंगी आपकी आंखें

1947 में देश को आजादी तो मिल गई थी लेकिन लोगों ने इसकी बहुत बड़ी कीमत चुकाई थी। देश के दो बंटवारे हो गए एक हिंदुस्तान और दूसरा पाकिस्तान।  लोगों के बसे बसाए घर, काम धंधे सब उजड़ गए, कई लोगों के परिवार एक दूसरे से बिछड़ गए। बंटवारे के बाद कई ऐसे परिवार थे जिनका कोई न कोई अपना उनसे बिछड़ गया था। बंटवारे के कारण पैदा हुए हालातों ने खूब तबाही मचाई थी। लोग एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए थे। लोगों के बसे बसाए घरों को उजाड़ दिया गया, बीवी-बच्चों की हत्या कर दी गई। भूख, प्यास से बिलखते लोगों को जहां जगह मिली अपना घर बार वहीं बना लिया। जैसे-जैसे समय बीता बिछड़े लोग एक दूसरे से मिलने लगे। एक ऐसा ही किस्सा अभी हाल ही में सामने आया जब बंटवारे में बिछड़े दो भाई पूरे 74 साल बाद मिले। ये दोनों भाई भी बंटवारे के समय बिछड़ गए थे और एक भाई हिंदुस्तान में तो एक भाई पाकिस्तान में चले  गए थे। दोबारा अब ये भाई करतारपुर कॉरिडोर में मिले जो पाकिस्तान के गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत से जोड़ता है।
आगे पढ़ें

Share your opinion:
Synopsis
पाकिस्तान के फैसलाबाद के रहने वाले मोहम्मद सिद्दीकी ने हिंदुस्तान में पंजाब के फूलनवाल में रहने वाले अपने बड़े भाई हबीब से 74 साल बाद मुलाकात की। इन दोनों की मुलाकात करतारपुर कॉरिडोर में हुई।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree