Firkee Logo
Home Panchayat Lucknow Diary Satire On Indian Politician And Scams
Lucknow Diary: Satire on Indian Politician and scams

लखनऊ डायरी: साहब! अब जनता विश्वास नहीं करती

...लेकिन साहब के जलवे तो कायम हैं 
 
शिक्षक भर्ती में सरकार की किरकिरी कराने वाले कई लोग नप गए। मगर, मुख्य सूत्रधार किस तरह बच गया, इसकी चर्चा सरगर्म है। दरअसल, भर्ती में सरकार की सबसे ज्यादा किरकिरी रिजल्ट घोषित करने के तौर-तरीके पर हुई। नतीजे आने पर परीक्षा के  बीच का गोरखधंधा भी सामने आ गया। पारदर्शी और तेज भर्ती कर वाहवाही पाने की सोचने वालों की ऐसी छीछालेदर हुई, जिसकी शायद ही किसी ने कल्पना की हो। उम्मीद के हिसाब से सख्त कार्रवाई भी हुई, मगर चौंकाने वाली बात यह रही कि परीक्षा में गड़बड़ियों के जिम्मेदार तो नप गए लेकिन चयनित परीक्षार्थियों की सूची जारी करने में जिनकी वजह से सबसे ज्यादा फजीहत हुई, वे फिलहाल बचा दिए गए। ये साहब पिछली सरकार में भी नाक के बाल थे, इस सरकार में भी हैं। समझने वाले कह रहे हैं कि सिर्फ एक चार्ज से मुक्त कर बिना कोई कार्रवाई किए छोड़ना बताता है कि  साहब के जलवे कायम हैं।
  आगे पढ़ें

सियासत में मंदिर

Share your opinion:
Synopsis
Lucknow Diary : यहांं भारतीय राजनीति और सियासी हलचलों पर चुटकी लेने की कोशिश की गई है। इस लेख का प्रकाशन अमर उजाला अखबार के विभिन्न संंस्करणों में होता है।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree