Firkee Logo
Home Panchayat Tension Between India And China Border Jaswant Singh Rawat War Memories
Tension between India and China border- Jaswant Singh Rawat war memories

इस भारतीय सैनिक के नाम से खौफ खाती है चीनी सेना,72 घंटों तक अकेले छकाया था !

चीन भले ही गीदड़ भबकी देता रहे लेकिन भारतीय सेना और सेना की ताकत से वह बखूबी वाकिफ है। वह जानता है कि भारतीय सेना में एक से वीर हैं जो मरने के बाद भी सेना और देश की सेवा में जुटे हुए हैं। ऐसे ही एक हमारे वीर नायक हैं जसवंत सिंह रावत। जिन्होंने 1962 की लड़ाई में चीनी सेना के छक्के छुड़ा कर रख दिए थे। आज भी जसवंत सिंह चीनी सेना और सैनिकों के ख्वाब में आते हैं।

चीन 1962 की लड़ाई में जीता था भारत से तो डर कैसा?

भाई डर ऐसा है कि चीन भले ही 1962 का युद्ध जीता था लेकिन वह भारतीय सैनिकों से डरता बहुत है। उसके सपने में हवलदार जसवंत सिंह रावत आज भी सपने में आते हैं। सपने में जसवंत सिंह आकर कहते हैं बस एक बार चढाई कर के दिखाओ तुमने मेरी गर्दन काटी थी हमारे सैनिक बैठे हैं तुम्हें नेस्तनाबूद करने के लिए।

जसवंत सिंह चीनी सैनिकों के सपने में कहते हैं चिड़ियों से मैं बाज तड़ाऊं, सवा लाख से एक लड़ाऊं, तभी गोबिंद सिहं नाम कहाऊं...और फिर चीनी सैनिकों की आंखें खुल जाती है और वो अपने बंकर से भागने लग जाते हैं। शहीद, वीर जसवंत सिंह का सपना ही चीन को हराने के लिए काफी है।

 राइफल मैन जसवंत सिंह भारतीय सेना का वो सिपाही था जिसने 1962 में नूरारंग की लड़ाई में चीनीयों के छक्के छुड़ा दिए थे।
 जसवंत सेला टॉप के पास की सड़क के मोड़ पर वह अपनी लाइट मशीन गन के साथ तैनात थे। चीनियों ने उनकी चौकी पर बार-बार हमले किए लेकिन उन्होंने पीछे हटना क़बूल नहीं किया।
आगे पढ़ें

जसवंत सिंह की मदद को आगे आईं दो लड़कियां

Share your opinion:
Synopsis
चीन जानता है कि भारतीय सेना में एक से वीर हैं जो मरने के बाद भी सेना और देश की सेवा में जुटे हुए हैं।ऐसे ही एक वीर शहीद हैं जसवंत सिंह रावत। इनसे आज भी क्यों डरता है चीन?

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree