Firkee Logo
Home Panchayat Who Will Understand Men S Problems Someone Like Me To Brings Something For Them
Who will understand men's problems, men also have me too moments

'मी टू' कैपेंन : भारतीय समाज में पुरुष कहां रोए अपना दुखड़ा?

कुछ सवाल होते तो जायज हैं लेकिन समाज में खुलेआम तौर पर कह दिए जाएं तो वो नाजायज लगने लगते हैं। ऐसे सवालों की लिस्ट में एक सवाल हर किसी के जहन में होता है, लेकिन उसे कहने या पूछने की हिम्मत शायद ही कोई जुटा पाता हो।

वो सवाल है कि क्या समाज में सिर्फ महिलाओं का ही यौन उत्पीड़न किया जाता है, पुरुषों का नहीं। कभी न कभी, कहीं न कहीं पुरुषों को भी तो उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है, उनके साथ भी तो ऐसा कुछ हो जाता है जो वह न तो किसी से कह पाते हैं और न कुछ कर पाते हैं। 

वैसे तो अपनी सोसाइटी को हमने पुरुष प्रधान समाज का तमगा दे रखा है, हिम्मत वाले सारे काम पुरातन काल से ही मर्दों को दिए जाते रहे लेकिन आज बराबरी के दौर में यह पूरा का पूरा पुरुष समाज अपनी आवाज को उठाने के लिए किसी #MeToo कैंपेन शुरू किए जाने का इंतजार कर रहा है।  

 
आगे पढ़ें

पुरुष भी होते हैं अजीबो-गरीब घटनाओं का शिकार

Share your opinion:
Synopsis
कुछ सवाल होते तो जायज हैं लेकिन समाज में खुलेआम तौर पर कह दिए जाएं तो वो नाजायज लगने लगते हैं। ऐसे सवालों की लिस्ट में एक सवाल हर किसी के जहन में होता है, लेकिन उसे कहने या पूछने की हिम्मत शायद ही कोई जुटा पाता हो।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree