Firkee Logo
Home Satire Satire By Famous Satirist Lalit Shaurya
satire by famous Satirist lalit shaurya

लिखास, छपास और दिखास का कीड़ा

कीड़े का काम कुलबुलाने का है। अलग-अलग लोगों का अलग-अलग टाइप के कीड़ों से टाइअप होता है। मनुष्य शरीर तो निमित्त मात्र है। प्रधान और प्रमुख तो कीड़ा है। व्यक्ति का नेचर इस छोटे से क्रीचर से डिसाइड होता है। जब यह कुलबुलाना शुरू करता है, तो व्यक्ति अधीर हो जाता है। मिसाल के तौर पर लिखास का कीड़ा बड़ा बिंदास टाइप का होता है। एक बार लग जाए जिंदगी भर नहीं छोड़ता।
आगे पढ़ें

Share your opinion:
Synopsis
लिखास, छपास और दिखास का कीड़ा satire by famous Satirist lalit shaurya

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree