Home Omg Cheetahs In India How Cheetahs Ended In India In Viral Video Of Year 1939

Cheetahs In India: जानिए भारत में कैसे चीतों का हुआ था अंत, वीडियो और तस्वीरें हुईं वायरल

टीम फिरकी, नई दिल्ली Published by: ज्योति मेहरा Updated Sun, 18 Sep 2022 10:31 AM IST
cheetah in india
cheetah in india - फोटो : istock

विस्तार

Cheetah In India: इन दिनों सोशल मीडिया पर केवल दो चीजें ही जमकर सुर्खियां बटोर रही हैं। एक भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन जो 17 सितंबर यानी कल था, और दूसरा इस खास दिन भारत आए चीते। अपने जन्मदिन के खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारत में चीता प्रोजेक्ट का उद्घाटन किया गया है, जिसको लेकर पूरे देश में उत्साह देखने को मिल रहा है। ऐसे में इंटरनेट कैसे पीछे रहे, सोशल मीडिया पर भी इस उत्साह की झलकियां देखने को मिल रही है। आप देख सकते हैं कि सोशल मीडिया पर कई तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहे हैं। इसी कड़ी में इन चीतों से जुड़ा एक खास वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है, ये वीडियो 1939 का है, जिसे देखकर हर कोई हैरान है। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि उस जमाने में किस तरह चीतों का शिकार किया गया था।  
 
इस वीडियो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर शेयर किया गया है। बता दें, इस वीडियो को भारतीय वन सेवा (आईएफएस) अधिकारी परवीन कस्वां ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है। वीडियो को शेयर करते हुए उन्होंने कैप्शन में लिखा है कि, 'जब चीते भारत वापस आ रहे हैं। ऐसे में देखें किस तरह से अंतिम लॉट का शिकार हुआ, उन्हें अपंग और शिकार पार्टियों के लिए पालतू बनाया गया। 1939 के इस वीडियो को जरूर देखें...'
 
विज्ञापन

इसके साथ ही अधिकारी ने आगे बताया कि 1947 में कोरिया (Chhattisgarh) के महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने आखिरी तीन चीतों का शिकार किया। दरअसल, इन सभी चीतों का शिकार रात के समय में किया गया था।
 
इस खास वीडियो के अलावा भी चीतों की कई तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही हैं। लोग इन दुर्लभ तस्वीरों को देखकर हैरान हैं। आप भी इन तस्वीरों को जरूर देखें-


आईएफएस अधिकारी के द्वारा शेयर की गई फोटोज भी काफी तेजी से वायरल हो रही हैं। इन तस्वीरों के जरिए अफसर ने चीतों से जुड़ी कई अहम जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि 1921-22 में प्रिंस ऑफ वेल्स की भारत यात्रा के दौरान चीतों का शिकार किया गया था। इसके साथ ही 1952 में भारत में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया गया।
 
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree